Sunday, November 27, 2022

इसरो के ऐतिहासिक रॉकेट लॉन्च की उल्टी गिनती शुरू, लांच करेगी 36 उपग्रह

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने शनिवार को दोपहर 12.07 बजे अपने भारी लिफ्ट रॉकेट जीएसएलवी एमके-3 के प्रक्षेपण के लिए 24 घंटे की उलटी गिनती शुरू की. इसका नाम बदलकर एलवीएम3 एम2 कर दिया गया है. इसमें 36 वनवेब उपग्रह हैं. 43.5 मीटर लंबा और वजनी 644 टन एलवीएम 3 एम2 रॉकेट रविवार को दोपहर 12.07 बजे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में भारत के रॉकेट पोर्ट के पहले दूसरे पैड से लॉन्च होने वाला है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, उलटी गिनती सुचारू रूप से चल रही है. एल110 चरण की गैस चार्जिग और प्रणोदक भरने का कार्य प्रगति पर है.

उलटी गिनती के दौरान रॉकेट और सैटेलाइट सिस्टम की जांच की जाएगी. रॉकेट के लिए ईंधन भी भरा जाएगा. आम तौर पर जीएसएलवी रॉकेट का इस्तेमाल भारत के भूस्थिर संचार उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए किया जाता है और इसलिए इसे जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (जीएसएलवी) नाम दिया गया. जीएसएलवी एमके-3 तीसरी पीढ़ी के रॉकेट को संदर्भित करता है.

रविवार की सुबह उड़ान भरने वाला रॉकेट लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) में वनवेब उपग्रहों की परिक्रमा करेगा. इसरो ने जीएसएलवी एमके-3 का नाम बदलकर एमके-3 (लॉन्च व्हीकल एमके-3) कर दिया है. रॉकेट अपनी उड़ान में सिर्फ 19 मिनट में एलईओ में नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड (वनवेब) के 36 छोटे ब्रॉडबैंड संचार उपग्रहों को जोड़ेगा. वनवेब, भारत भारती ग्लोबल और यूके सरकार के बीच एक संयुक्त उद्यम है. उपग्रह कंपनी संचार सेवाओं की पेशकश करने के लिए पृथ्वी की कक्षा (एलईओ) में लगभग 650 उपग्रहों का एक समूह बनाने की योजना बना रही है.

एलएमबी3 एम2 तीन चरण वाला रॉकेट है, जिसमें पहले चरण में तरल ईंधन से दो स्ट्रैप ठोस ईंधन द्वारा संचालित मोटर्स पर दूसरा तरल ईंधन द्वारा और तीसरा क्रायोजेनिक इंजन है. इसरो के भारी लिफ्ट रॉकेट की क्षमता एलईओ तक 10 टन और जियो ट्रांसफर ऑर्बिट (जीटीओ) तक चार टन है. इसरो ने कहा, वनवेब उपग्रहों का कुल प्रक्षेपण द्रव्यमान 5,796 किलोग्राम होगा. 36 उपग्रह स्विस आधारित बियॉन्ड ग्रेविटी, पूर्व में आरयूएजी स्पेस द्वारा बनाए गए एक डिस्पेंसर सिस्टम पर होंगे. बियॉन्ड ग्रेविटी ने पहले 428 वनवेब उपग्रहों को एरियनस्पेस में लॉन्च करने के लिए उपग्रह डिस्पेंसर प्रदान किया था.

अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, विक्रेता द्वारा 36 उपग्रहों के साथ डिस्पेंसर की आपूर्ति की गई थी. इसका इस्तेमाल उनके पहले के सभी प्रक्षेपणों में किया गया था.

बियॉन्ड ग्रेविटी के लिए यह पहली बार है, जब उनके डिस्पेंसर को भारतीय रॉकेट में फिट किया गया है. 1999 से शुरू होकर इसरो ने अब तक 345 विदेशी उपग्रहों को कक्षा में स्थापित किया है. 36 वनवेब उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण से यह संख्या 381 हो जाएगी. वनवेब के 36 उपग्रहों के एक और सेट को जनवरी 2023 में कक्षा में स्थापित करने की योजना है. यह प्रक्षेपण वनवेब के समूह को 462 उपग्रहों तक लाता है, वैश्विक कवरेज तक पहुंचने के लिए वनवेब के लिए आवश्यक 70 प्रतिशत से अधिक उपग्रह. इसरो के अनुसार, वनवेब नक्षत्र एक एलईओ ध्रुवीय कक्षा में संचालित होता है. उपग्रहों को प्रत्येक विमान में 49 उपग्रहों के साथ 12 रिंगों (कक्षीय विमानों) में व्यवस्थित किया गया है. कक्षीय विमानों का झुकाव ध्रुवीय (87.9 डिग्री) के पास और पृथ्वी से 1,200 किमी ऊपर होता है.

प्रत्येक उपग्रह प्रत्येक 109 मिनट में पृथ्वी का एक पूर्ण चक्कर लगाता है. पृथ्वी उपग्रहों के नीचे घूम रही है, इसलिए वे हमेशा जमीन पर नए स्थानों पर उड़ते रहेंगे. इस तारामंडल में 648 उपग्रह होंगे.

इसरो की वाणिज्यिक शाखा, न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) ने नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड (वनवेब) के साथ दो अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए हैं, जो बाद के ब्रॉडबैंड संचार उपग्रहों को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित करने के लिए है. वनवेब के बोर्ड ने रूस में बैकोनूर रॉकेट बंदरगाह से उपग्रह प्रक्षेपण को निलंबित करने के लिए मतदान किया था.

इस बीच, संडे रॉकेट मिशन में भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र के लिए कई प्रथम हैं. यह जीएसएलवी एमके-3 का पहला व्यावसायिक प्रक्षेपण है और पहली बार कोई भारतीय रॉकेट लगभग छह टन का पेलोड ले जाएगा. इसी तरह, वनवेब पहली बार अपने उपग्रहों को कक्षा में स्थापित करने के लिए एक भारतीय रॉकेट का उपयोग कर रहा है. साथ ही, यह एनएसआईएल द्वारा अनुबंधित जीएसएलवी एमके-3 का पहला व्यावसायिक प्रक्षेपण है, और पहली बार एलईओ में उपग्रहों को स्थापित करने के लिए नाम बदलकर जीएसएलवी एमके-3 का उपयोग किया जा रहा है.

नोट: इस लेख में दी गई सभी जानकारी केवल जानकारी के उद्देश्य के लिए लिखी गई है।

Related Articles

नवीनतम