fbpx
Monday, January 30, 2023

बस इसी उम्मीद से टीका हुं😁

गधा: मेरा मालीक मुझे
बहुत पीटता है।
कुत्ताः तुम भाग क्यो नही
जाते
गधा: मालिक की खुबसुरत लडकी जब पढाई नही
करती तो मालिक कहता हैं की
“तेरी शादी गधे से कर दुंगा”
बस इसी उम्मीद से टीका हुं
😁😁😝😂😂🤣🤣

दीपा ने अपनी मां को फोन किया –
मम्मी, मेरा उनसे झगड़ा हो गया है,
मैं 3-4 महीनों के लिए घर आ रही हूं।
….
मां बोली- झगड़ा उस कम्बख्त ने किया है
तो सजा भी उसे ही मिलनी चाहिए।
तू वहीं रुक, मैं 5-6 महीने के लिए आ रही हूं।
😂😝😝😝😝😝


घोंचू- भैया, सभ्यता और शिष्टाचार का तो लगता है जमाना ही नही रह गया…।
पोंचू- क्यों क्या हुआ…?
घोंचू- कल मन्नू आया था।
मैंने कहा- चाय मंगाऊं, तो झट हामी भर दी।
तुम्हीं कहो, मेरा फर्ज पूछना था तो उसका भी मना करना फर्ज था या नहीं?
😝😝😝😝😝😝😝


एक बार रेल में बैठे दो मुसाफिरों में लड़ाई हो रही थी।
एक खिड़की खोल देता था और कहता था, ‘गर्मी लग रही है, इसलिए खिड़की खुली रहने दो।’
दूसरा खिड़की बंद कर देता था और कहता ‘सर्दी लग रही है इसलिए खिड़की बंद रहने दो।’
……….
जब उन्हें लड़ते-लड़ते काफी देर हो गई तो तीसरे मुसाफिर ने कहा- ‘क्यों लड़ते हो भाई! कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि खिड़की का सिर्फ फ्रेम ही है, कांच नहीं।’

नोट: ये सभी चुटकुले सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर साझा की गई लोकप्रिय सामग्री से लिए गए हे। हमारा मकसद सिर्फ लोगो को हंसाना है। किसी भी धर्म, जाति, वर्ग, लिंग और रंग के लोगो का मजाक बनाना या उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाना या आहत करनेका हमारा कोई मकसद नहीं है।

Related Articles

नवीनतम