fbpx
Tuesday, February 7, 2023

Astro Tips: ज्योतिष के इन उपायों से विवाह में आ रही बाधाएं होती हैं फौरन दूर!

Astro Tips: कई बार यह देखने में आता है कि कोई लड़का या लड़की विवाह के योग्य हो चुके हैं, लेकिन किसी न किसी कारण से विवाह तय होने में लगातार देरी होती है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार विवाह में देरी का कारण कुंडली दोष हो सकता है. वर-वधु की कुंडली में कुछ ऐसे दोष होते है जिससे विवाह में देरी होती है. जिस कारण से कोई न कोई कारण से विवाह संपन्न नहीं हो पाता है. ज्योतिष में विवाह के दोष को दूर करने के लिए कुछ उपाय बताए गए हैं जिसका पालन करने पर कुंडली से विवाह संबंधी दोष खत्म किया जा सकता है.

विवाह में देरी का कारण कुंडली दोष

  • कुंडली का सातवां भाव पति-पत्नी से संबंधित होता है. जब कुंडली के सातवें भाव में बुध और शुक्र दोनों ग्रह मौजूद हो तो विवाह में देरी का कारण बनता है.
  • जब किसी जातक की कुंडली के चौथे भाव या फिर लग्न भाव में मंगल ग्रह विराजमान हो और सातवें भाव में शनि बैठे हों तो व्यक्ति की इच्छा शादी करने की नहीं होती है.
  • जब किसी जातक की कुंडली के सातवें भाव में शनि और गुरु हो तो शादी में देरी होती है. इसके अलावा चंद्र राशि से सातवें भाव में गुरु हो तो भी विवाह में देरी का कारण होता है.
  • चंद्र की राशि कर्क से गुरु सातवें भाव में हो तो भी विवाह में तमाम तरह की बाधाएं आती हैं.
  • जब किसी कन्या की कुंडली में सप्तमेश शनि से पीड़ित हो तो विवाह में देरी और तरह की बाधाएं आती हैं.
  • राहु की दशा चल रही और राहु सातवें भाव में दोष पैदा करते हों तो विवाह के बाद इसके टूटने की संभावना होती है.
  • जब किसी जातक की कुंडली में लग्न भाव, सप्तम भाव और 12वें भाव में गुरु या शुक्र ग्रह योगकारक नहीं होते हैं और चंद्रमा भी कमजोर हो तो विवाह में बाधाएं आती हैं.

जल्द विवाह के ज्योतिषी उपाय

  • वैदिक ज्योति शास्त्र के अनुसार विवाह में देरी का कारण गुरु, शनि और मंगल ग्रहो होते हैं ऐसे में इन ग्रहों के शुभ प्रभाव को बढ़ाने के लिए इनसे संबंधित उपाय करना चाहिए.
  • जल्द विवाह के लिए और विवाह में आने वाले तमाम तरह की बाधाओं को दूर करने के लिए शिवजी के साथ माता पार्वतीजी की पूजा करनी चाहिए. विवाह योग्य कन्याओं को मां पार्वती की पूजा के दौरान सुहाग की चीजें जरूर चढ़ाएं.
  • विवाह से जुड़ी मनोकामनाओं को पूरा करने के लिए गुरुवार के दिन व्रत रखें और भगवान विष्णु संग देवी लक्ष्मी की पूजा करें.
  • जल्द विवाह की मनोकामना को पूरा करने के लिए प्रतिदिन सुबह के समय भगवान गणेशजी के साथ रिद्धि-सिद्धि की भी पूजा करें.

नोट: यहां दी गई जानकारी धार्मिक मान्यता और लोक मान्यता पर आधारित है। इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं भी हो सकता। सामान्य हित और ज्ञान को ध्यान में रखते हुए यहां इसे प्रस्तुत किया जा रहा है।

Related Articles

नवीनतम