fbpx
Monday, January 30, 2023

Ganesha Jayanti 2023: गणेश जयंती पर बन रहा रवि योग और बुध का दुर्लभ संयोग, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और उपाय

Ganesha Jayanti 2023 Date: गणेश जयंती का शास्त्रों में विशेष महत्व है। गणेश जयंती को माघी गणेशोत्सव, माघ विनायक चतुर्थी, वरद चतुर्थी और वरद तिल कुंद चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। पंचांग के अनुसार इस साल गणेश जयंती 25 जनवरी को मनाई जाएगी। आपको बता दें कि गणेश जयंती हर साल माघ माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाई जाती है। मान्यता है जो व्यक्ति इस दिन व्रत रखकर भगवान गणेश की आराधना करता है। भगवान गणेश उसके सभी कष्ट हर लेते हैं। आपको बता दें कि इस साल गणेश जयंती पर रवि योग और बुधवार का संयोग भी बन रहा है। जिससे इस दिन का महत्व और भी बढ़ गया है। आइए जानते हैं तिथि, शुभ मुहुर्त और उपाय…

गणेश जयंती 2023 तिथि (Ganesh Jayanti 2023 Tuthi)

वैदिक पंचांग के अनुसार  शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि 24 जनवरी को दोपहर 3 बजकर 21 मिनट से आरंभ हो रही है और इस तिथि की समाप्ति 25 जनवरी को दोपहर 12 बजकर 33 मिनट पर होगी। इसलिए उदयातिथि को आधार मानकर गणेश जयंती 25 जनवरी बुधवार को मनाई जाएगी।

गणेश जयंती 2023 शुभ मुहूर्त (Ganesh Jayanti 2023 Shubh Muhurat)

पूजा का शुभ मुहूर्त पंचांग के अनुसार 25 जनवरी को सुबह 11 बजकर 28 मिटन से शुरू होकर दोपहर 12 बजकर 33 मिनट तक रहेगा। इस बीच में गणेश की आराधना और मोदक का भोग लगा सकते हैं।

रवि और शिव योग में गणेश जयंती

पंचांग के अनुसार गणेश जयंती पर रवि योग का निर्माण हो रहा है। रवि योग सुबह 07 बजकर 12 मिनट से शुरू होगा और रात 08 बजकर 4 मिनट तक रहेगा। ज्योतिष में रवियोग को बेहद शुभ माना जाता है। मतलब इस योग में की गई पूजा का दोगुना फल प्राप्त होता है। वहीं इस दिन शाम को शिव योग भी बन रहा है यह योग 25 जनवरी शाम 6 बजकर 15 मिनट से 26 जनवरी सुबह 10 बजकर 28 मिनट तक रहेगा।

करें ये उपाय

  • गणेश जयंती पर आप भगवान गणेश को मोदक का भोग लगाएं। मोदक गणेश जी को अत्यंत पसंद है और गणेश जी अपने भक्त के सभी कष्ट हर लेते हैं। साथ ही धन- समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं।
  • भगवान गणेश को दूर्वा बहुत प्रिय है, इसलिए इनकी कृपा पाने के लिए दूर्वा अर्पित करें। ऐसा करने से जीवन में सुख- समृद्धि का वास रहेगा। 
  • अगर काफी कोशिश के बाद विवाह नहीं हो पा रहा हो तो गणेश जयंती के दिन 4 हल्दी की गांठ भगवान गणेश को अर्पित करें। ऐसा करने से विवाह के योग बन सकते हैं।
  • अगर आपकी कुंडली में बुध दोष है या कोई काम लंबे समय से रुक रहा हो तो इस दिन हरी चीजों का दान करें और उस दान को मंदिर के किसी पुजारी को चरण छूकर देकर आएं। ऐसा करने से आपको कार्य में सिद्धि मिल सकती है।

नोट: यहां दी गई जानकारी धार्मिक मान्यता और लोक मान्यता पर आधारित है। इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं भी हो सकता। सामान्य हित और ज्ञान को ध्यान में रखते हुए यहां इसे प्रस्तुत किया जा रहा है।

Related Articles

नवीनतम